दर्शन अखाड़े का उद्घाटन

क्या विविध ज्ञान परम्पराओं की नगरी काशी में माँ गंगा के उर्वर तट पर दर्शन अखाड़े की शुरुआत एक प्रासंगिक पहल है? क्या हम दर्शन संवाद और राजनीतिक परिचर्चा के बीच तालमेल की ओर आगे बढ़ेंगे ?

वाराणसी में 8 मार्च की शाम को राजघाट पर दर्शन अखाड़ा में करीब 30–35 लोग वार्ता के लिए बैठे. विजय नारायण जी की अध्यक्षता में सुनील ने विषय प्रस्तावित किया, कहा कि सार्वजनिक स्तर पर दर्शन वार्ता होनी चाहिए. अच्छी अथवा नैतिक राजनीति हो इसके लिए समाज में दर्शन वार्ता का प्रचलन एक बड़ी भूमिका निभाता है. लोगों का रोजमर्रे का जीवन और सामान्य वार्ताएं इन सब में दर्शन की गहरी और व्यापक उपस्थिति होती है. आवश्यकता इस बात की है कि सामाजिक जीवन के विभिन्न पहलुओं पर विशेष ध्यान देने वाले और उन क्षेत्रों में नेतृत्व की भूमिका निभाने वाले स्त्रीपुरुष इस वास्तविकता को तरजीह दें और सामान्य लोगों के साथ नियमित तौर पर दर्शन वार्ता करें. शायद इस काम की शुरुआत सामाजिक कार्यकर्ताओं से होगी. ये लोग सतत विचारशील होते हैं और पहल लेकर काम करते हैं. विद्या आश्रम ने इस दर्शन अखाड़ा की शुरुआत इसीलिए की है. अखाड़ा इसलिए कि प्रतियोगी भाव मोहब्बत से अलग हो और बाज़ार की दौड़ से मुक्त ये वार्ताएं की जायें. वार्ताओं में भाईचारे दूसरों के विचार के सम्मान का भाव हो तथा रचनात्मक विचारों पर जोर हो. समाज में ज्ञान पर वार्ता का कार्य विद्या आश्रम शुरू से ही कर रहा है. लोकविद्या और लोकविद्या दर्शन के विचार को इन वार्ताओं के दौर में आकार दिया गया है. अब दर्शन वार्ता के जरिये उम्मीद की जाती है कि समाज के दीर्घकालीन भले के राजनीतिक विचारों के लिए भूमि तैयार की जा सकेगी. उपस्थित लोगों को अपने विचार व्यक्त करने के लिए आमंत्रित किया गया.

IMG_20190308_175509

लक्ष्मण प्रसाद, गोरखनाथ यादव, रमण पन्त, मुनीज़ा खान, केसर राय, आलम अंसारी, प्रवाल कुमार सिंह, अमित बसोले, वीणा देवस्थली, प्रेमलता सिंह और चित्रा जी ने अपने विचार सबके सामने रखे. सबने अलगअलग बात कही. दर्शन के इन सबके विचार अलगअलग रहे तथापि जो बातें कही गईं सब विषय पर ही थीं. इस पर थोड़ी आपसी चर्चा हुई कि विचार अथवा विचारधारा ये शब्द प्रचलित हैं, क्या ये दर्शन से कुछ अलग हैं. कुछ लोगों ने अपने विचार रखे और मोटी सहमति यह रही कि इन वार्ताओं के शुरू में इन सबके बीच अंतर किया जाए. दर्शन के अंतरगत वार्ताओं में ये क्षमता हो सकती है कि वे हमें इतिहास में प्रचलित शब्दों, अवधारणाओं और विचारों की सीमाओं को लांघने में मदद करें और किसी भी घटना, नीति, विषयवस्तु, आचारव्यवहार, समाज की अपेक्षाओं आवश्यकताओं अथवा सैद्धांतिक स्थापनाओं की गहराई में जाने के रास्ते बनाती रहें.

IMG_20190308_175324

विजय नारायण जी ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में आज की राजनीति में व्याप्त गड़बड़ियों उसमें व्यस्त प्रतिगामी ताकतों का चरित्र उजागर किया और उम्मीद जताई कि दर्शन अखाड़ा की यह पहल स्वच्छ राजनीति करना चाहने वालों के लिए ताकत का एक स्रोत बन सकती है.

IMG_20190308_175428

अंत में गोरख नाथ यादव ने उपस्थित लोगों का आभार व्यक्त किया और सभी को अल्पाहार के लिए आमंत्रित किया.

darshanakhadablog.wordpress.com  नाम से विद्या आश्रम एक ब्लॉग चलाता है. उसे भी देखें.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.