काशी दर्शन के विविध अर्थ

23 मार्च की दोपहर को दर्शन अखाड़े पर ‘काशी दर्शन के विविध अर्थ’ पर चर्चा हुई. काशी की संस्कृति और समाज की बृहत् जानकारी रखने वाले वरिष्ठ पत्रकार श्री अमिताभ भट्टाचार्य ने अपनी बात लगभग 25 की संख्या में उपस्थित सामाजिक सरोकार रखने वाले प्रबुद्ध जनों के सामने रखी. उन्होंने ‘ मैं और हम’ का मुहावरा रूप इस्तेमाल किया और काशी को ज्ञान, धर्म, राजनीति इत्यादि में विविध पथों पर संचरण कर रहे लोगों के आपसी सामंजस्य, सौहार्द और संवाद का अद्भुत स्थान बताया . उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि आजकल बहुवचन के स्थान पर एकवचन (सेल्फी) के आरोप का दौर चल रहा है, यह अनिष्ट का सूचक है.

55453698_2127106447365179_7269869835159339008_o.jpg

यदि यह दौर चलता रहा तो काशी का बहुवचनीय विविधता का मूल स्वरुप नष्ट हो जायेगा. इसी विविधता में काशी दर्शन के विविध अर्थों को भी देखा जा सकता है. परिचर्चा में वरिष्ठ सहयोगी विजय नारायण सिंह, अशोक मिश्र, राजेंद्र प्रसाद सिंह और अमर बहादुर सिंह ने अपने विचार रखे. काशी के राजनितिक चरित्र से लेकर पुनर्जन्म के चक्र से मुक्ति की अवधारणा तक चर्चा हुई. दर्शन अखाड़ा के संयोजक सुनील सहस्रबुद्धे ने काशी दर्शन के विविध अर्थों के अंतर्गत ‘ज्ञान पर्यटन’ का विचार सामने रखा, यह कहते हुए कि कबीर, रविदास, रामानंद, पार्श्वनाथ, महात्मा बुद्ध, बाबा विश्वनाथ, माँ गंगा, कृष्णमूर्ति, एनी बेसेन्ट, महात्मा गाँधी काशी विद्यापीठ, सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय, बनारस हिन्दू युनिवर्सिटी, इदारतुल – बुहोसिल इस्लामिया जामिया सल्फिया, कीनाराम अवधूत परंपरा , माँ आनंदमयी, ये सब तथा और कई, विविध ज्ञान परम्पराओं से हमारा परिचय काशी की भूमि पर कराते हैं. उन्होंने कहा कि आज 23 मार्च इस चर्चा के लिए बहुत बड़ा दिन है, तथा दर्शन अखाड़े की ओर से भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को उनकी महान शहादत के लिए याद किया और डा. लोहिया को उनके जन्म दिवस के लिए. कहा कि हमें इन सबको एक दार्शनिक के रूप में भी देखने की ज़रूरत है. दर्शन न अमूर्त होना ज़रूरी है और न उसे विश्वविद्यालय की मुहर की दरकार है. दर्शन अविभाज्य और अबाधित चिंतन हैं. बातों को उनकी गहराई और व्यापकता में एक साथ देखने की वृत्ति है.

54727329_2127106610698496_5835274436726489088_o.jpg
अंत में हम सबके वरिष्ठ साथी विश्वास चन्द्र जी ने अपने अध्यक्षीय सम्भाषण में काशी दर्शन के अर्थों को समझने के लिए कुछ पुस्तकों के नाम बताये और कहा कि कभी भी दोपहर को पराड़कर भवन में उनसे मिलकर ये पुस्तकें पढ़ने के लिए प्राप्त की जा सकती हैं.

55554391_2127106860698471_1704557049586647040_o.jpg55450467_2127107074031783_4021949994658430976_o.jpg

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.